Concept Of Personality Notes In Hindi

Concept Of Personality Notes In Hindi 2

Concept Of Personality Notes In Hindi

आज हम इन नोट्स में Concept Of Personality Notes In Hindi, व्यक्तित्व की अवधारणा, के बारे में जानेंगे तो चलिए शुरू करते है और जानते है व्यक्तित्व की संकल्पना/व्यक्तित्व की अवधारणा के बारे विस्तार से |

  • व्यक्तित्व की अवधारणा ने सदियों से मनुष्यों को उत्सुक और मोहित किया है। प्राचीन दार्शनिक बहसों से लेकर आधुनिक मनोवैज्ञानिक अनुसंधान तक, व्यक्तित्व को समझना हमारी इस खोज में एक मौलिक खोज बनी हुई है कि प्रत्येक व्यक्ति को क्या अद्वितीय बनाता है। व्यक्तित्व में गुणों, व्यवहारों और विशेषताओं की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल होती है जो किसी व्यक्ति की सोच, भावना और अभिनय के विशिष्ट पैटर्न को परिभाषित करती है। इस लेख का उद्देश्य व्यक्तित्व की बहुमुखी प्रकृति में गहराई से उतरना, मानव व्यवहार को आकार देने में इसकी उत्पत्ति, सिद्धांतों और महत्व की खोज करना है।

व्यक्तित्व की अवधारणा

(Concept of Personality)

व्यक्तित्व की अवधारणा विचारों, भावनाओं और व्यवहार के अद्वितीय और स्थायी पैटर्न को संदर्भित करती है जो किसी व्यक्ति के चरित्र का निर्माण करती है। यह वही है जो प्रत्येक व्यक्ति को स्वयं के रूप में विशिष्ट और पहचानने योग्य बनाता है। व्यक्तित्व में गुणों, प्रवृत्तियों और विशेषताओं की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल होती है जो यह निर्धारित करती है कि व्यक्ति अपने आस-पास की दुनिया को कैसे देखते हैं और उसके साथ कैसे बातचीत करते हैं।

व्यक्तित्व की प्रमुख विशेषताओं में शामिल हैं:

  • संगति (Consistency): व्यक्तित्व लक्षण समय के साथ और विभिन्न स्थितियों में अपेक्षाकृत स्थिर होते हैं। हालाँकि लोग कुछ परिस्थितियों के अनुसार अपने व्यवहार को अनुकूलित कर सकते हैं, लेकिन उनका मूल व्यक्तित्व अपेक्षाकृत सुसंगत रहता है।
  • व्यक्तिगत अंतर (Individual Differences): प्रत्येक व्यक्ति में गुणों और विशेषताओं का एक अनूठा संयोजन होता है जो उन्हें दूसरों से अलग करता है। कुछ व्यक्ति मिलनसार और मिलनसार हो सकते हैं, जबकि अन्य अधिक अंतर्मुखी और आरक्षित हो सकते हैं।
  • व्यवहार पर प्रभाव (Influence on Behavior): व्यक्तित्व प्रभावित करता है कि व्यक्ति विभिन्न परिस्थितियों में कैसे सोचते हैं, महसूस करते हैं और कार्य करते हैं। यह निर्णय लेने, समस्या-समाधान और पारस्परिक संबंधों को प्रभावित कर सकता है।
  • प्रकृति और पालन-पोषण (Nature and Nurture): व्यक्तित्व का विकास आनुवंशिक और पर्यावरणीय कारकों के संयोजन से प्रभावित होता है। हालांकि कुछ लक्षणों का आनुवंशिक आधार मजबूत हो सकता है, अनुभव, पालन-पोषण और सांस्कृतिक प्रभाव भी व्यक्तित्व को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
  • एकाधिक परिप्रेक्ष्य (Multiple Perspectives): व्यक्तित्व को समझने और समझाने के लिए विभिन्न सिद्धांत और दृष्टिकोण प्रस्तावित किए गए हैं। इनमें मनोगतिक सिद्धांत (उदाहरण के लिए, फ्रायड का मनोविश्लेषण), विशेषता सिद्धांत (उदाहरण के लिए, बड़े पांच व्यक्तित्व लक्षण), मानवतावादी सिद्धांत (उदाहरण के लिए, मास्लो की जरूरतों का पदानुक्रम), व्यवहार सिद्धांत और सामाजिक-संज्ञानात्मक सिद्धांत शामिल हैं।
  • मूल्यांकन (Assessment): मनोवैज्ञानिक व्यक्तित्व का आकलन करने के लिए विभिन्न तरीकों का उपयोग करते हैं, जैसे स्व-रिपोर्ट प्रश्नावली, प्रोजेक्टिव परीक्षण, व्यवहार संबंधी अवलोकन और साक्षात्कार। प्रत्येक विधि की अपनी ताकत और सीमाएँ होती हैं।
  • अनुकूलनशीलता और परिवर्तन (Adaptability and Change): यद्यपि व्यक्तित्व अपेक्षाकृत स्थिर है, यह पूरी तरह से स्थिर नहीं है। लोग अपने पूरे जीवन में परिवर्तन और विकास का अनुभव कर सकते हैं, और जीवन की कुछ घटनाएं और अनुभव व्यक्तित्व में बदलाव ला सकते हैं।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि व्यक्तित्व एक जटिल और बहुआयामी निर्माण है, और कोई भी एकल सिद्धांत या दृष्टिकोण इसकी संपूर्णता पर पूरी तरह से कब्जा नहीं कर सकता है। मनोवैज्ञानिक इसके विकास, मूल्यांकन और मानव व्यवहार और कल्याण पर प्रभाव की गहरी समझ हासिल करने के लिए व्यक्तित्व की प्रकृति का पता लगाना और शोध करना जारी रखते हैं।


Concept-Of-Personality-Notes-In-Hindi
Concept-Of-Personality-Notes-In-Hindi

व्यक्तित्व का परिचय

(Introduction to Personality)

  • शब्द “व्यक्तित्व” आमतौर पर हमारी दैनिक बातचीत में उपयोग किया जाता है, और यह उन अद्वितीय और विशिष्ट तरीकों को संदर्भित करता है जिनसे व्यक्ति अलग-अलग लोगों और स्थितियों पर प्रतिक्रिया करते हैं। “व्यक्तित्व” शब्द की उत्पत्ति का पता लैटिन शब्द “पर्सोना” से लगाया जा सकता है, जो प्राचीन रोमन थिएटर में अभिनेताओं द्वारा प्रदर्शन के दौरान अपनी उपस्थिति बदलने के लिए पहना जाने वाला मुखौटा था। हालाँकि, मास्क पहनने का मतलब यह नहीं है कि अभिनेता के पास उस चरित्र के गुण हैं जो वे निभा रहे हैं।

व्यक्तित्व की मनोवैज्ञानिक परिभाषा

(Psychological Definition of Personality)

  • मनोविज्ञान में, व्यक्तित्व व्यवहार, विचारों और भावनाओं के सुसंगत पैटर्न को संदर्भित करता है जो किसी व्यक्ति को परिभाषित करता है। ये पैटर्न आकार देते हैं कि एक व्यक्ति आम तौर पर विभिन्न स्थितियों में और विभिन्न लोगों के साथ कैसे प्रतिक्रिया करता है। लोग अक्सर अलग-अलग व्यक्तित्वों का वर्णन करने के लिए विशिष्ट शब्दों या वाक्यांशों का उपयोग करते हैं, जैसे शर्मीला, संवेदनशील, शांत, चिंतित, गर्म, आदि।

व्यवहार में बदलाव

(Variations in Behavior)

  • लोगों को करीब से देखने पर यह स्पष्ट हो जाता है कि व्यक्ति अपने व्यवहार में विभिन्नता प्रदर्शित करते हैं। वे हमेशा सतर्क या आवेगपूर्ण तरीके से कार्य नहीं करते हैं, न ही वे लगातार शर्मीले या मिलनसार होते हैं। व्यक्तित्व अधिकांश स्थितियों में किसी व्यक्ति के व्यवहार के समग्र सार को दर्शाता है। व्यक्तित्व की मुख्य विशेषता स्थिरता है – यानी, एक व्यक्ति कैसे व्यवहार करता है, सोचता है और महसूस करता है, विभिन्न परिस्थितियों में और समय के साथ स्थिर रहता है।
  • उदाहरण: यदि कोई व्यक्ति अपनी ईमानदारी के लिए जाना जाता है, तो वे चाहे किसी भी समय या स्थिति में हों, ईमानदारी प्रदर्शित करने की अधिक संभावना रखते हैं। चाहे वह दोस्तों, परिवार, काम पर या किसी अन्य संदर्भ में हो, उनका झुकाव ईमानदारी की ओर होता है। उनके व्यक्तित्व का एक सतत पहलू बना हुआ है।
  • मनोविज्ञान में व्यक्तित्व की अवधारणा को समझना आवश्यक है क्योंकि यह हमें व्यक्तिगत मतभेदों को समझने, व्यवहार की भविष्यवाणी करने और इस बात की अंतर्दृष्टि प्राप्त करने में मदद करता है कि लोग अपनी अनूठी विशेषताओं और लक्षणों के आधार पर दुनिया को कैसे नेविगेट करते हैं।

व्यक्तित्व की विशेषताएँ

(Characteristics of Personality)

संक्षेप में, व्यक्तित्व की पहचान निम्नलिखित विशेषताओं से होती है:

  1. शारीरिक और मनोवैज्ञानिक घटक (Physical and Psychological Components): व्यक्तित्व एक जटिल संरचना है जिसमें शारीरिक और मनोवैज्ञानिक दोनों घटक शामिल होते हैं। भौतिक पहलू अवलोकन योग्य लक्षणों को संदर्भित करते हैं, जैसे शारीरिक भाषा, चेहरे के भाव और अन्य गैर-मौखिक संकेत। ये भौतिक गुण किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व के बारे में बहुमूल्य जानकारी प्रदान कर सकते हैं। दूसरी ओर, मनोवैज्ञानिक घटकों में विचार, भावनाएं, विश्वास और दृष्टिकोण जैसी आंतरिक विशेषताएं शामिल होती हैं जो किसी व्यक्ति के व्यवहार और दूसरों के साथ बातचीत को आकार देती हैं।
    उदाहरण: मान लीजिए हमारे पास दो व्यक्ति हैं, जॉन और सारा। जॉन का शारीरिक कद लंबा और प्रभावशाली है, जिसे उनके व्यक्तित्व का एक भौतिक घटक माना जा सकता है। दूसरी ओर, सारा को उसके सहानुभूतिपूर्ण और दयालु स्वभाव के लिए जाना जाता है, जो उसके व्यक्तित्व के मनोवैज्ञानिक पहलू को दर्शाता है।
  2. व्यवहार में अद्वितीय अभिव्यक्ति (Unique Expression in Behavior): व्यक्तित्व की परिभाषित विशेषताओं में से एक यह है कि यह प्रत्येक व्यक्ति के लिए काफी अनोखे तरीके से व्यवहार में प्रकट होता है। जिस तरह से लोग दुनिया के साथ कार्य करते हैं, प्रतिक्रिया देते हैं और बातचीत करते हैं, वह उनके व्यक्तित्व के गुणों और प्रवृत्तियों से प्रभावित होता है, जिसके परिणामस्वरूप व्यवहार के विशिष्ट पैटर्न बनते हैं जो उन्हें दूसरों से अलग करते हैं।
    उदाहरण: दो दोस्तों, माइक और एलेक्स की कल्पना करें, जो मिलनसार और साहसी दोनों हैं। हालाँकि, माइक का मिलनसार स्वभाव हास्य और सहजता के माध्यम से व्यक्त हो सकता है, जबकि एलेक्स का स्वभाव सामाजिक कार्यक्रमों का आयोजन करने और बाहरी गतिविधियों में जोखिम लेने का हो सकता है। भले ही वे मिलनसार होने का गुण साझा करते हैं, व्यक्तित्व के इस पहलू की उनकी अभिव्यक्तियाँ प्रत्येक व्यक्ति के लिए अद्वितीय होती हैं।
  3. समय के साथ अपेक्षाकृत स्थिर (Relatively Stable Over Time): व्यक्तित्व समय के साथ अपेक्षाकृत स्थिर और सुसंगत हो जाता है, विशेष रूप से वे मुख्य पहलू जो किसी व्यक्ति को परिभाषित करते हैं। जबकि व्यक्तित्व के कुछ पहलू जीवन के अनुभवों और व्यक्तिगत विकास के कारण बदल या विकसित हो सकते हैं, किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व को बनाने वाली मूलभूत विशेषताएं अक्सर जीवन भर अपेक्षाकृत स्थिर रहती हैं।
    उदाहरण: स्वाभाविक रूप से अंतर्मुखी व्यक्ति की उम्र बढ़ने के साथ-साथ एकांत और आत्मनिरीक्षण के प्रति अपनी प्राथमिकता बनाए रखने की संभावना होती है। यद्यपि वे सामाजिक कौशल विकसित कर सकते हैं और सामाजिक सेटिंग में अधिक सहज हो सकते हैं, लेकिन उनकी अंतर्निहित अंतर्मुखी प्रकृति अपरिवर्तित रहती है।
  4. गतिशील और अनुकूली (Dynamic and Adaptive): अपनी सापेक्ष स्थिरता के बावजूद, व्यक्तित्व पूरी तरह से स्थिर नहीं है। यह गतिशील हो सकता है और विभिन्न आंतरिक और बाह्य स्थितिगत मांगों के अनुकूल हो सकता है। लोग अपने व्यवहार या प्रतिक्रियाओं के कुछ पहलुओं को उस संदर्भ के आधार पर संशोधित कर सकते हैं जिसमें वे खुद को पाते हैं, बिना अपने मूल व्यक्तित्व लक्षणों में बदलाव किए।
    उदाहरण: एक व्यक्ति जो आमतौर पर शांतचित्त और सहज रहता है, वह अधिक मुखर हो सकता है और उच्च दबाव वाले कार्य वातावरण में कार्यभार संभाल सकता है। हालाँकि व्यवहार में यह परिवर्तन परिस्थितिजन्य है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि व्यक्ति ने अपने संपूर्ण व्यक्तित्व को मौलिक रूप से बदल दिया है। एक बार जब वे अधिक आरामदायक माहौल में लौट आएंगे, तो उनका सामान्य सहज स्वभाव फिर से स्थापित हो जाएगा।

व्यक्तित्व की विशेषताओं को समझने से मनोवैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं को मानव व्यवहार, व्यक्तिगत अंतर और लोग अपने पर्यावरण के साथ कैसे बातचीत करते हैं, इसका अध्ययन करने में मदद मिलती है। यह प्रत्येक व्यक्ति की अद्वितीय और गतिशील प्रकृति पर भी जोर देता है, जो मानवीय अनुभवों की समृद्ध विविधता में योगदान देता है।

Also Read: Prateek Shivalik Free Notes in Hindi


व्यक्तित्व से संबंधित शर्तें

(Personality-related Terms)

  1. स्वभाव (Temperament): स्वभाव दुनिया के प्रति प्रतिक्रिया करने के जैविक रूप से आधारित विशिष्ट तरीके को संदर्भित करता है। यह किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व का एक सहज और प्राकृतिक पहलू है जो अक्सर जन्म से ही मौजूद होता है। स्वभाव इस बात पर प्रभाव डालता है कि कोई व्यक्ति भावनाओं, पर्यावरणीय उत्तेजनाओं और सामाजिक संपर्कों सहित विभिन्न उत्तेजनाओं को कैसे समझता है और उन पर प्रतिक्रिया करता है। व्यक्तित्व का यह पहलू अपेक्षाकृत स्थिर है और व्यक्ति के जीवन भर बना रहता है।
    उदाहरण: एक बच्चा जो आम तौर पर शांत और सहज स्वभाव के साथ पैदा होता है, वह बड़े होने के साथ-साथ विभिन्न स्थितियों में अपेक्षाकृत आराम और शांत रहने की संभावना रखता है। इसके विपरीत, अधिक चिड़चिड़े और उधम मचाने वाले स्वभाव वाला बच्चा उत्तेजनाओं के प्रति बढ़ी हुई प्रतिक्रिया दिखाना जारी रख सकता है और विकसित होने पर अधिक आसानी से उत्तेजित हो सकता है।
  2. गुण (Trait): लक्षण स्थिर, निरंतर और व्यवहार के विशिष्ट तरीके हैं जो किसी व्यक्ति की विशेषता बताते हैं। वे विचारों, भावनाओं और व्यवहारों के स्थायी पैटर्न हैं जो विभिन्न स्थितियों और संदर्भों में सुसंगत हैं। लक्षण किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और समय के साथ अपेक्षाकृत स्थिर होते हैं।
    उदाहरण: एक व्यक्ति जिसके पास कर्तव्यनिष्ठा का गुण है, वह अपने जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में संगठित, जिम्मेदार और भरोसेमंद होने जैसे लगातार व्यवहार प्रदर्शित कर सकता है, चाहे वह काम पर हो, रिश्तों में, या व्यक्तिगत जिम्मेदारियों में हो।
  3. स्वभाव (Disposition): स्वभाव से तात्पर्य किसी व्यक्ति की किसी स्थिति पर एक विशेष तरीके से प्रतिक्रिया करने की प्रवृत्ति से है। यह विशिष्ट परिस्थितियों में कुछ प्रतिक्रियाओं, भावनाओं या व्यवहारों के प्रति सामान्य झुकाव या प्रवृत्ति का प्रतिनिधित्व करता है। स्वभाव आनुवंशिक कारकों, प्रारंभिक अनुभवों और व्यवहार के सीखे गए पैटर्न के संयोजन से प्रभावित हो सकता है।
    उदाहरण: यदि किसी का स्वभाव सकारात्मक है, तो वह आशावाद और उत्साह के साथ नई चुनौतियों का सामना कर सकता है। दूसरी ओर, अधिक सतर्क स्वभाव वाला व्यक्ति उन्हीं चुनौतियों का सामना अधिक झिझक और सावधानीपूर्वक विचार के साथ कर सकता है।
  4. चरित्र (Character): चरित्र नियमित रूप से होने वाले व्यवहार के समग्र पैटर्न का प्रतिनिधित्व करता है जो किसी व्यक्ति के नैतिक और नैतिक मूल्यों को दर्शाता है। यह किसी व्यक्ति की सत्यनिष्ठा, ईमानदारी और सिद्धांतों से निकटता से जुड़ा हुआ है। चरित्र में नैतिक दिशा-निर्देश शामिल है जो किसी व्यक्ति के कार्यों और निर्णयों का मार्गदर्शन करता है।
    उदाहरण: एक मजबूत चरित्र वाला व्यक्ति दूसरों के साथ बातचीत में ईमानदारी, निष्पक्षता और करुणा प्रदर्शित करने की अधिक संभावना रखता है। चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों का सामना करने पर भी वे लगातार अपने मूल्यों के अनुरूप कार्य करेंगे।
  5. आदत (Habit): आदतें व्यवहार के अत्यधिक सीखे गए तरीके हैं जो दोहराव और अभ्यास के माध्यम से स्वचालित हो जाते हैं। जबकि आदतें केवल व्यक्तित्व लक्षणों तक ही सीमित नहीं हैं, वे किसी व्यक्ति के व्यवहार और विभिन्न स्थितियों में प्रतिक्रियाओं को आकार देने में भूमिका निभाते हैं।
    उदाहरण: एक व्यक्ति जिसने हर दिन जल्दी उठने की आदत विकसित कर ली है, वह सचेत प्रयास के बिना भी लगातार ऐसा करेगा, क्योंकि यह उनकी दिनचर्या का एक अंतर्निहित और स्वचालित हिस्सा बन गया है।
  6. मूल्य (Values): मूल्य उन लक्ष्यों और आदर्शों का प्रतिनिधित्व करते हैं जिन्हें व्यक्ति जीवन में प्राप्त करना महत्वपूर्ण और सार्थक मानते हैं। वे किसी व्यक्ति के निर्णयों, व्यवहारों और प्राथमिकताओं का मार्गदर्शन करते हैं, उनके समग्र व्यक्तित्व को आकार देते हैं और उनकी पसंद को प्रभावित करते हैं।
    उदाहरण: यदि कोई ईमानदारी और अखंडता को अत्यधिक महत्व देता है, तो वे अपनी बातचीत में सच्चाई को प्राथमिकता देंगे, भले ही इसके लिए चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों या संभावित परिणामों का सामना करना पड़े।

इन व्यक्तित्व-संबंधी शब्दों को समझने से मानव व्यवहार की जटिलताओं और किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व विकास में योगदान देने वाले विभिन्न कारकों को समझने में मदद मिलती है। ये शब्द मनोवैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं को मूल्यवान अंतर्दृष्टि प्रदान करते हैं कि लोग दुनिया को कैसे देखते हैं, दूसरों के साथ बातचीत करते हैं और अपनी अनूठी विशेषताओं और मूल्यों के आधार पर चुनाव करते हैं।


Major Approaches to the Study of Personality

(व्यक्तित्व के अध्ययन के प्रमुख दृष्टिकोण)

 

व्यक्तित्व के अध्ययन के लिए प्रकार के दृष्टिकोण

(Type Approaches to the Study of Personality)

  • व्यक्तित्व के अध्ययन में प्रकार के दृष्टिकोण का उद्देश्य व्यक्तियों की देखी गई व्यवहार संबंधी विशेषताओं में व्यापक पैटर्न की जांच करके मानव व्यक्तित्व को समझना है। इस दृष्टिकोण में, व्यक्तियों को विशेष पैटर्न के साथ उनकी व्यवहारिक विशेषताओं की समानता के आधार पर विशिष्ट “प्रकारों” में वर्गीकृत किया जाता है।
    उदाहरण: एक प्रकार के दृष्टिकोण का एक उदाहरण मायर्स-ब्रिग्स टाइप इंडिकेटर (एमबीटीआई) है, जो व्यक्तियों को विभिन्न व्यक्तित्व प्रकारों में वर्गीकृत करता है। प्रत्येक प्रकार को चार प्रमुख आयामों में प्राथमिकताओं के संयोजन द्वारा दर्शाया जाता है: बहिर्मुखता बनाम अंतर्मुखता, संवेदन बनाम अंतर्ज्ञान, सोच बनाम भावना, और निर्णय बनाम धारणा। इनमें से प्रत्येक आयाम में उनकी प्रमुख प्राथमिकताओं के आधार पर लोगों को सोलह एमबीटीआई व्यक्तित्व प्रकारों में से एक में वर्गीकृत किया जाता है, जैसे आईएसटीजे (अंतर्मुखी, संवेदनशील, सोच, निर्णय), ईएनएफपी (बहिर्मुखी, सहज, महसूस करना, समझना), आदि।

प्रकार के दृष्टिकोण में, व्यक्तियों को सामान्य व्यवहार संबंधी विशेषताओं के आधार पर एक साथ समूहीकृत किया जाता है जो एक विशिष्ट प्रकार को परिभाषित करते हैं। यह व्यक्तित्व पैटर्न की व्यापक समझ की अनुमति देता है लेकिन व्यक्तिगत मतभेदों की पूरी जटिलता को नहीं पकड़ सकता है।

व्यक्तित्व के अध्ययन के लिए गुण दृष्टिकोण

(Trait Approach to the Study of Personality)

  • व्यक्तित्व के अध्ययन के लिए विशेषता दृष्टिकोण विशिष्ट मनोवैज्ञानिक विशेषताओं या लक्षणों की पहचान करने पर केंद्रित है जिनके साथ व्यक्ति लगातार और स्थिर तरीकों से भिन्न होते हैं। लक्षण स्थायी गुणों का प्रतिनिधित्व करते हैं जो किसी व्यक्ति के व्यवहार को आकार देते हैं और विभिन्न स्थितियों में उनकी प्रतिक्रियाओं को प्रभावित करते हैं।
    उदाहरण: पांच बड़े व्यक्तित्व लक्षण (खुलापन, कर्तव्यनिष्ठा, बहिर्मुखता, सहमतता और मनोविक्षुब्धता) व्यक्तित्व मनोविज्ञान में एक व्यापक रूप से मान्यता प्राप्त विशेषता मॉडल है। इन पांच लक्षणों में से प्रत्येक के पैमाने पर प्रत्येक व्यक्ति का मूल्यांकन और मूल्यांकन किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, कोई व्यक्ति बहिर्मुखता में उच्च अंक प्राप्त कर सकता है, जो यह दर्शाता है कि वे निवर्तमान और मिलनसार हैं, जबकि न्यूरोटिसिज्म पर कम अंक प्राप्त करते हैं, यह दर्शाता है कि वे भावनात्मक रूप से स्थिर हैं और नकारात्मक भावनाओं के प्रति कम संवेदनशील हैं।
    उदाहरण: विशेषता दृष्टिकोण में विशिष्ट आयामों के साथ व्यक्तिगत अंतर का आकलन करना शामिल है। उदाहरण के लिए, एक व्यक्ति कम शर्मीला हो सकता है, जबकि दूसरा व्यक्ति अधिक शर्मीला हो सकता है। इसी प्रकार, एक व्यक्ति कम मित्रवत हो सकता है, जबकि दूसरा व्यक्ति अधिक मित्रवत हो सकता है। यहां, “शर्मीलापन” और “मित्रता” ऐसे लक्षण हैं जिनके आधार पर व्यक्तियों का मूल्यांकन संबंधित व्यवहार गुणवत्ता या विशेषता की उपस्थिति या अनुपस्थिति की डिग्री के आधार पर किया जा सकता है।

प्रकार के दृष्टिकोण के विपरीत, विशेषता दृष्टिकोण विशिष्ट आयामों के साथ व्यक्तिगत मतभेदों की जांच करता है, जिससे व्यक्तित्व की अधिक विस्तृत और सूक्ष्म समझ मिलती है।

सारांश: प्रकार का दृष्टिकोण व्यक्तियों को देखे गए व्यवहार संबंधी विशेषताओं के आधार पर व्यापक पैटर्न में वर्गीकृत करता है, जबकि विशेषता दृष्टिकोण विशिष्ट मनोवैज्ञानिक विशेषताओं या लक्षणों की पहचान करने पर केंद्रित होता है जो व्यक्तियों को सुसंगत और स्थिर तरीकों से अलग करते हैं। दोनों दृष्टिकोण व्यक्तित्व के अध्ययन में योगदान करते हैं, मानव व्यवहार और व्यक्तिगत मतभेदों को समझने में अद्वितीय अंतर्दृष्टि प्रदान करते हैं। मनोविज्ञान के क्षेत्र में शोधकर्ता और चिकित्सक मानव व्यक्तित्व और व्यवहार की जटिलताओं की व्यापक समझ हासिल करने के लिए इन दृष्टिकोणों का उपयोग करते हैं।


Also Read:

Leave a Comment

Share via
Copy link